Important -


◦ "डाॅ. कुमार विश्वास की प्रेरणादायी शायरी" Post में और Extra शायरियां जोड़ी गई है, आप इसे यहां Click करके पढ़ सकते है। Thanks!
◦ "विचार ही जिंदगी बनाते है!" Law of Attraction in Hindi पोस्ट को और अधिक Meaningful और Quality युक्त बनाया गया है, आप इसे यहां Click करके पढ़ कते है। Thanks!
◦ New!!! विचार प्रेरणा ब्लाॅग की सारी Posts एक साथ पढने के लिए ऊपर के पेज सेक्शन में All Posts पर Click करें और सभी Posts पढने का आनंद ले। Thanks!



यह ब्लाॅग आपको कैसा लगा? यह हमें Comments के माध्यम से जरूर बताए। आपके Valuable Comments ही इस ब्लाॅग को चलाए रखने में हमारा हौसला बढाते है। Thanks!!!

Saturday, 25 July 2015

लालच पड़ा भारी

Inspirational Story in Hindi

दोस्तों आज आप सबके साथ Hindi में एक Inspiring Story Share कर रहा हूँ जो सोने की एक शिला के बारे में है।
Self Help Stories
किसी जंगल में एक स्वर्ण शिला पड़ी हुई थी। दो घुड़सवार वहां आए और दोनों ने उस शिला को देख लिया, चूंकि दोनों एक हीं समय पर पहुंचे थे इसलिए दोनों ने उस स्वर्णशिला पर अपना अपना अधिकार जताना शुरू कर दिया। पहले वाक युद्ध हुआ , फिर बात हाथापाई तक पहुंच गई। अंततः दोनों में तलवारे खिंची और एक ही पल में एक दूसरे के सीने में उतर गई । दोनों घुड़सवार वहीं मर गए। दोनों एक दूसरे से पूर्णतः अनभिज्ञ थे पर लोभ ने एक दूसरे को जानी दुश्मन बना दिया।

कुछ देर बाद वहां एक साधु महाराज पहुंचे, उनकी नजर भी सोने की उस शिला पर पड़ गई और वे भूल गए कि उन्होनें दुनिया की मोह माया त्यागने का प्रण भी कभी लिया था। लोभ में उनकी आंखे इतनी अंधी हो गई कि  उन दो घुड़सवारों के शव तक नहीं देखे। वे पास ही में खड़े रहकर यह सोचने लगे कि किस तरह से इसे अपनी कुटिया में पहुंचाया जाए?

तभी वहां से चोरों का एक समूह जिसमें कुल आठ चोर थे, वहां पहुंचा। साधु महाराज ने उनसे कहा कि तुम यह शिला मेरी कुटिया तक पहुंचा दो, मैं तुम्हे खूब सारा धन दूंगा। साधु की यह बात सुनकर चोर हंसे और बोले कि क्यों न हम तुम्हें मारकर यह स्वर्णशिला ही ले जाए? चोर तो आखिर चोर ठहरे। उन्होंने वैसा ही किया , साधु महाराज के शव को ठिकाने लगा कर उन्होनें यह फैसला किया कि इस शिला के आठ बराबर टुकड़ें कर के आपस में बांट लिए जाए। इसके लिए वह पास गांव के एक सुनार के यहां गए और उन्हें स्वर्णशिला के बारे में बताकर आठ टुकड़े करने के लिए कहा। चोरों की बात सुनकर सुनार का मन भी लालच के जल में हिचकोले खाने लगा। उसने घर में जाकर आठ लड्डू बनाए और उनमें विष मिला दिया। यह लड्डू लेकर वह चोरों के साथ जंगल में गया जहां स्वर्णशिला पड़ी थी।

वहां पहुंचकर सुनार ने चोरों से कहा कि भाईयों तुम पहले मेरे घर के बने लड्डू खा लो, उसके बाद अपन इस शिला के टुकड़े करने का काम शुरू करेंगे। यह बात सुनकर चोरों ने लड्डू खाने से मना कर दिया कि पहले आप इनके आठ टुकड़े कर दे इसके बाद हीं हम कुछ खाएंगे। सुनार ने जल्दी हीं उस स्वर्णशिला के आठ टुकड़े कर दिये। स्वर्णशिला का राज सुनार कहीं राजा को न बता दे इसलिए चोरों ने सुनार की भी हत्या कर दी। अपने अपने टुकड़ें लेकर चोर जैसे ही चलने को हुए तो उन्होनें सोचा कि पहले कुछ खा लिया जाए इसलिए उन्होनें सुनार के लाए लड्डू खा लिए। लड्डु खाते ही उनकी भी वहीं पर मृत्यु हो गई। स्वर्णशिला के लोभ में कुल 12 लोगों ने अपनी जान गंवा दी और फिर भी इसे कोई नहीं पा सका। लालच एक ऐसा विष है, जो उसकी तरफ देखने वाले को भी बर्बाद कर देता हैं।


-------------------------------------------------------------------------------------
Write with us-
यदि आपके पास Hindi में है कोई Motivational Article, या कोई भाषण अथवा कोई Inspirational Quotes अथवा Stories तो हमें लिख भेजे vicharprerna@gmail.com पर. आपकी सामग्री krutidev010, Devlys010 or Google unicode फॉण्ट में हो तो बेहतर है. अपनी सामग्री के साथ अपना फोटो जरूर भेजे. हमारी टीम द्वारा पढ़े जाने के बाद यदि सामग्री निश्चित रूप से ब्लॉग के उद्देश्य को पूरा करती है तो इसे विचार प्रेरणा ब्लॉग पर प्रदर्शित किया जायेगा.कुंठाओं और चिन्ताओ से भरी दुनिया में आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी को जीने की राह दिखा सकती है .

No comments:

Post a Comment

Subscribe Every New Post

अब हर नई पोस्ट की सूचना ईमेल के माध्यम से पाए

Enter your email address:-