Thank You.........

Thank You.........

Important -


◦ "डाॅ. कुमार विश्वास की प्रेरणादायी शायरी" Post में और Extra शायरियां जोड़ी गई है, आप इसे यहां Click करके पढ़ सकते है। Thanks!
◦ "विचार ही जिंदगी बनाते है!" Law of Attraction in Hindi पोस्ट को और अधिक Meaningful और Quality युक्त बनाया गया है, आप इसे यहां Click करके पढ़ कते है। Thanks!
◦ New!!! एक नया काॅलम शुरू किया है -'फलसफ़ा ज़िंदगी का' । इस काॅलम में रोजमर्रा की जिंदगी में सामने आने वाली सच्ची प्रेरणादायक कहानियों को फंडे की बात के साथ मैं यहां आपके लिए शेयर करता रहूंगा। Be Positive. Thanks!



यह ब्लाॅग आपको कैसा लगा? यह हमें Comments के माध्यम से जरूर बताए। आपके Valuable Comments ही इस ब्लाॅग को चलाए रखने में हमारा हौसला बढाते है। Thanks!!!

Monday, 27 July 2015

उपयोगी बने - Motivational Article in hindi

Scale of Success Motivational Article in Hindi


Be a useful person a selfhelp article in hindi
Be a useful person
आज का Topic हमारे Daily Routine से जुड़ा होने के बावजूद हम इससे एक महत्वपूर्ण सीख नहीं ले पाते है। आप जानते है कि हमें गाय से सर्वप्रथम दूध प्राप्त होता है और दूध से कई Product बनते है जिनका मूल्य और उपयोग अलग अलग होता है उदाहरण के लिए दूध से घी (मक्खन), दही, दूध पाउडर, पनीर बनाया जा सकता है। तो इनमें से कौन ज्यादा गुणी और मूल्यवान है? जी हां आप सही है। घी ज्यादा गुणी और मूल्यवान है बनिस्पत दूध के अन्य उत्पादों से।

जैसे सारे दूध देने वाले जन्तु दूध देते है। उसी प्रकार हम सभी जन्म के समय केवल मनुष्य होते है। अन्य उत्पादों की तुलना में सर्वाधिक गुणी, औषधीय और मूल्यवान घी होता है, यह हम सब जानते है। ठीक वैसे ही हम सब मनुष्य रूप में जन्म लेते है लेकिन हम दुनिया के लिए क्या बनते है यह हम पर निर्भर करता है।
अपने आस पास के वातावरण पर गौर करे या फिर करे याद करे। जब भी दूध में या दूध से बनी चाय में मक्खी गिर जाती है तो हम उस दूध या चाय को बाहर गिरा देते है। मक्खी गिरने के बाद हम इसे नहीं पी पाते है। लेकिन सोचियें यहीं मक्खी घी से भरे बर्तन में गिर जाती है तो क्या हम घी को बाहर गिरा देते है? नहीं ना। सिर्फ मक्खी को निकालकर बाहर फेंक देते है।

तो यहीं हमारा उद्देश्य होना चाहिए कि हम घी बनेंगे। जिस प्रकार दूध का बिलौना कर घी प्राप्त किया जाता है। दूध से घी प्राप्त करना, अन्य उत्पाद प्राप्त करने से कही ज्यादा कठिन है, इसी प्रकार जिंदगी में घी जैसे गुणी और मूल्यवान होना भी मेहनत और लगन का कार्य होता है। अगर हम दूसरे लोगों के लिए घी जैसे गुणी है तो लोग हमें स्वीकार करेंगे और यदि हमें एकाध अवगुण है तो भी वें हमें अपने से दूर नहीं करना चाहेंगे।

क्योकि चांद में एकाध दाग हो जाने मात्र से ही स्त्रिया करवाचौथ पर उसे देखना बंद नहीं कर सकती है।

यह सवाल है कि घी कैसे बने? इसके लिए मेहनत और लगन चाहिए। हर एक व्यक्ति जिसने सफलता पाई है और परोपकार में भी अपना धन खर्च करता है वह घी की प्रकृति का है। घी खुद अपनी मेहनत से घी बनता है, क्योकि बिलौने के समय सबसे पहले मथकर वह दूध के उपर आ जाता है लेकिन सिर्फ इसी कारण से वह मूल्यवान नहीं है। उसकी सफलता इस बात में भी छुपी है कि लोग उस घी को खाकर अपूर्व बल और स्वास्थ्य प्राप्त करते है। इसलिए सिर्फ सफलता प्राप्त करना ही सफल होना नहीं है, यदि आपकी सफलता से पिछड़ों, गरीबों और असहायों की मदद हो सकती है तो आप वास्तव में आप इस दुनिया के सबसे सफल लोगों में से एक है। आप सच्चे अर्था में घी है और प्रकृति द्वारा मानव जाति का बिलौना करने पर सबसे पहले उपर आने वाले लोगों में से एक।
                                   Written By- Ram Lakhara

                           -------------------------------------------------------------------------

Write with us-
यदि आपके पास Hindi में है कोई Motivational Article, या कोई भाषण अथवा कोई Inspirational Quotes अथवा Stories तो हमें लिख भेजे vicharprerna@gmail.com पर. आपकी सामग्री krutidev010, Devlys010 or Google unicode फॉण्ट में हो तो बेहतर है. अपनी सामग्री के साथ अपना फोटो जरूर भेजे. हमारी टीम द्वारा पढ़े जाने के बाद यदि सामग्री निश्चित रूप से ब्लॉग के उद्देश्य को पूरा करती है तो इसे विचार प्रेरणा ब्लॉग पर प्रदर्शित किया जायेगा.कुंठाओं और चिन्ताओ से भरी दुनिया में आपके द्वारा दी गयी जानकारी किसी को जीने की राह दिखा सकती है .

No comments:

Post a Comment

Subscribe Every New Post

अब हर नई पोस्ट की सूचना ईमेल के माध्यम से पाए

Enter your email address:-